बंदर के बच्‍चे के साथ खेलने की सजा, बहराइच मेडिकल कॉलेज में 6 नर्स सस्‍पेंड

6 nurses suspended from Bahraich Medical College as punishment for playing with a baby monkey

बहराइच/उत्तर प्रदेश। महाराजा सुहेलदेव मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य ने बन्दर के बच्चे के साथ खेलने और उसके वीडियो को वायरल करने के आरोप में छ: नर्सों को निलंबित कर दिया है। साथ ही एक कमेटी भी बना दी है जो पूरे प्रकरण की जांच कर रही है।
महाराजा सुहेलदेव स्वाशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय एवं महर्षि बालार्क चिकित्सालय के प्रधानाचार्य संजय खत्री ने स्टाफ नर्स अंजली, किरन सिंह, आंचल शुक्ला, प्रिया, पूनम पाण्डेय और संध्या सिंह को निलंबित करते हुए पत्र लिखा है।इसमें उन्होंने कहा है कि तत्काल प्रभाव से आप सभी को आदेशित किया जाता है कि स्त्री और प्रसूति रोग विभाग में आपने ड्यूटी के समय में बन्दर के साथ रील बनाने एवं अपने कार्य में लापरवाही बरतने के कारण, रील को सोशल मीडिया पर वायरल करने के कारण चिकित्सा महाविद्यालय की छवि धूमिल की है। इसके क्रम में आप लोगों के विरुद्ध जांच समिति का गठन किया गया है। उपरोक्त के क्रम में जांच समिति की आख्या प्राप्त होने तक आप सभी को चिकित्सा महाविद्यालय और विभाग में कार्य प्रतिबंधित/निलंबित किया जाता है।
5 जुलाई को चिकित्सा महाविद्यालय के नर्सिंग स्टेशन में उपरोक्त सभी नर्स एक बन्दर के बच्चे के साथ खेल रही थीं। वहीं पर तमाम सरकारी कागज़ भी रखे हुए थे। वीडियो में देखा जा सकता है बन्दर के बच्चे ने एक कागज़ को फाड़ने का भी प्रयास किया। लगभग 50 सेकेण्ड के वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि बन्दर बारी-बारी सभी नर्सों की गोद में जा रहा है और कागजों से खेल रहा है।
मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एम एम त्रिपाठी से जब एनबीटी संवाददाता ने पूछा कि यह बन्दर चिकित्सा महाविद्यालय में आ कहां से आ गया, तो उन्होंने बताया कि किरन नाम की स्टाफ नर्स इसे अपने साथ लेकर आई थी। इस प्रकरण के लिए बनाई गई 6 सदस्यीय जांच कमेटी में डॉक्टर अनूप कुमार, डॉक्टर अशोक मणि त्रिपाठी और डॉक्टर अंजली शामिल हैं। इन्‍हें तीन दिन में अपनी रिपोर्ट देनी है लेकिन समाचार लिखे जाने तक रिपोर्ट नहीं आई थी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।